Saturday, September 1, 2012

 इंतज़ार की इन्तेहाँ क्या होगी !!!
तुम्हारे इंतज़ार में,
मर कर भी मेरी पलकें खुली होंगी..........

- रोली..

1 comment: